• Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Child Report 2020
  • Raj Yoga Report
  • Career Counseling
Personalized
Horoscope

गुरु बृहस्पति गोचर 2021 – Jupiter Transit 2021 in Hindi

Last Updated: 3/13/2020 3:32:07 PM

Guru Brihaspati Gochar 2021, Brihaspati Gochar, Gochar 2021, Transit 2021

ज्योतिष शास्त्र में गुरु ग्रह यानी की बृहस्पति ग्रह को बहुत बड़ा दर्जा दिया गया है। बृहस्पति को सभी देवताओं का गुरु ग्रह माना गया है इसलिए गुरु गोचर को भी ख़ास दर्जा दिया गया है। गुरु ज्ञान की सलाह देते हैं। अगर किसी इंसान को खुद की ज़िंदगी में बड़े बुज़ुर्गों, वरिष्ठ अधिकारियों इत्यादि की कृपा चाहिए तो ऐसा केवल गुरु की कृपा से ही मुमकिन हो सकता है। अगर आपकी कुंडली में गुरु शुभ हैं तो मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी आपको अपनों का सहयोग मिलता रहेगा। यहाँ जानिए कि गुरु गोचर 2021 सभी राशियों पर क्या प्रभाव लेकर आएगा।

वर्ष 2021 का कुंडली आधारित सटीक फलादेश- वार्षिक कुंडली 2021

कर्क राशि में बृहस्पति उच्च के होते हैं तो मकर राशि में इन्हें नीच का माना जाता है। इसके अलावा बृहस्पति ग्रह को धनु और मीन राशि का स्वामी माना जाता है। जहाँ एक तरफ सूर्य, चंद्रमा और मंगल के साथ इनकी मित्रता है तो वहीँ शुक्र और बुध के साथ इनके शत्रुता वाले संबंध हैं। इसके अलावा राहु-केतु और शनि के साथ इनका तटस्थ संबंध है। बृहस्पति ग्रह में एक खास बात यह भी कही जाती है कि इनकी भले ही किसी ग्रह से शत्रुता हो लेकिन जो ग्रह इनके साथ मित्रता नहीं रखते वे इनके शत्रु भी नहीं है यानि अधिकतर ग्रहों का बृहस्पति से तटस्थ रिश्ता है।

Click here to read in english

बृहस्पति गोचर का समय और तिथि

2021 में गुरु गोचर, 6 अप्रैल को मंगलवार के दिन शाम 6 बज-कर 01 मिनट पर मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश करेगा और वक्री अवस्था में 15 सितंबर बुधवार के दिन प्रातः काल 4:22 पर एक बार फिर से मकर राशि में प्रवेश कर जाएगा। इसके बाद मार्गी होने के बाद 20 नवंबर शनिवार के दिन पूर्वान्ह 11:23 पर कुंभ राशि में प्रवेश करेगा।आइए जानते हैं कि इस गुरु गोचर का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है।

बृहस्पति गोचर (Brihaspati Gochar) 2021 का प्रभाव

ज्योतिष शास्त्र में बृहस्पति का गोचर शुभ फल देने वाला माना जाता है। गुरु ज्ञान, धन, संतान मान-सम्मान विकास, कर्म, विवाह इत्यादि का कारक ग्रह है। जिस जातक की जन्म कुंडली में गुरु ग्रह का विशेष प्रभाव होता है वो जातक तन-मन और धन से धार्मिक एवं आध्यात्मिक कामों में ख़ास रूचि रखता है।

मेष राशि

बृहस्पति 2021 में आपकी राशि से आपके लिए नवम और द्वादश का स्वामी है। इससे आपको काफी अच्छे परिणाम मिलने की उम्मीद है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके एकादश भाव में रहेगा। जिसके प्रभाव-स्वरूप आपको आर्थिक मुद्दों से जुड़े मामलों में फ़ायदा हो सकता है। इस दौरान आपकी आमदनी में भी बढ़ोतरी हो सकती है। आपको इस दौरान एक से अधिक आय के स्त्रोत बनते नज़र आयेंगे। आपकी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति के लिए भी ये समय काफी उपयुक्त रहने वाला है। आपका भाग्य चमकेगा जिससे आपको ज़बरदस्त धन लाभ होगा। आपको कुछ विदेशी स्रोतों से भी लाभ मिलने की संभावना है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके दशम भाव में रहेगा। दौरान आपके कार्य क्षेत्र में समस्याएं बढ़ सकती हैं। इस दौरान आपका आपके काम पर फोकस काफी कम रह सकता है। आपको आपके पारिवारिक जीवन में सुख मिलेगा। लेकिन पिताजी के स्वास्थ को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि इस दौरान आपके पिता को कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी होने की उम्मीद है।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके एकादश भाव में रहने वाला है। गोचर 2021 के फलस्वरूप इस दौरान आपका काफी बेहतरीन समय शुरु होने वाला है। प्रेम में पड़े जातकों के लिए भी ये अच्छा समय साबित हो सकता है क्योंकि इस दौरान उनके प्रेम जीवन में सफलता मिलने के प्रबल योग हैं। इसके अलावा शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में भी सुख भरा समय शुरू होने वाला है। हालाँकि इस वक़्त बेहद ज़रूरी है कि आप अपने अंदर के आलस्य को त्याग दें। इसके अलावा इस समय आपके प्रबल धन लाभ के भी योग बनते नज़र आ रहे हैं।

उपाय: प्रतिदिन मस्तक पर केसर का तिलक लगाएँ।

वृषभ राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए अष्टम और एकादश भाव का स्वामी है। जिसके परिणामस्वरूप आपको काफी मिले-जुले परिणाम मिलने की संभावना है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके दशम भाव में रहने वाला है। जिससे आपको आपके कार्य क्षेत्र में समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। हालाँकि इस दौरान आपके पारिवारिक जीवन में ख़ुशियाँ और शांति बढ़ेगी लेकिन आपकी आमदनी में थोड़ी गिरावट आएगी। ये समय आपके लिए थोड़ा कठिन जाने वाला है इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि इस समय आप अधिक-से-अधिक मेहनत करें।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके नवम भाव में रहने वाला है। जिससे आपके इस दौरान कई यात्राओं के योग बनते नज़र आ रहे हैं। अपने पिताजी की सेहत का ख़ास ख्याल रखें उन्हें स्वास्थ से संबंधित कोई परेशानी कष्ट दे सकती है। ये समय आपके भाग्य की वृद्धि करवाने वाला साबित हो सकता है। इसके अलावा इस समय आपकी आध्यात्म के क्षेत्र में भी रुचि बढ़ सकती है।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके दशम भाव। जिससे आपके कार्य-क्षेत्र में थोड़ी उठा-पटक की स्थिति बनी रहेगी। इस दौरान वृषभ जातकों के लिए स्थानांतरण के भी प्रबल योग बनते नज़र आ रहे हैं। इस समय आपके पारिवारिक जीवन में सुख शांति रहेगी। साथ ही आपके माता-पिता का स्वास्थ्य भी काफी बेहतर रहने वाला है।

उपाय: बृहस्पतिवार के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराएं।

मिथुन राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए सप्तम और दशम का स्वामी है। बृहस्पति गोचर 2021 से आपके जीवन में उठा-पटक की स्थिति बनी रहेगी जिसके परिणामस्वरूप मिथुन राशि के जातकों को मिल-जुले परिणाम मिलने की संभावना बनती नज़र आ रही है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके नवम भाव में रहेगा जिससे आपके भाग्य की बढ़ोतरी होने की संभावना है।

इस दौरान आप कुछ भी निर्णय लेते हैं तो आपको उसमें सफलता अवश्य मिलेगी। आपका आपके जीवन-साथी से सम्बन्ध काफी अच्छा रहेगा। आपके मान-सम्मान में भी वृद्धि होने की उम्मीद है। इस दौरान आपको कहीं से धन लाभ भी हो सकता है। आप किसी धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते हैं। इसके अलावा कार्य क्षेत्र में आपके स्थानांतरण की भी संभावना है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके अष्टम भाव में रहने वाला है। इस दौरान आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई परेशानी दिक्कत दे सकती हैं। आर्थिक पहलू के हिसाब से ये समय आपके लिए थोड़ा परेशानियों भरा रह सकता है। आपको अपने ससुराल पक्ष के लोगों की सेहत का ख़ास ख्याल रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि आपके ससुराल पक्ष के किसी सदस्य को स्वास्थ सम्बन्धी कोई दिक्कत होने की आशंका है। आपके पिता जी को भी किसी प्रकार की कोई समस्या होने की आशंका है।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके नवम भाव में रहने वाला है जिसके फलस्वरूप आपके भाग्य में वृद्धि होने के आसार हैं जिससे आपके सभी रुके हुए काम बनने शुरू हो सकते हैं। इस दौरान आपके पिता जी को कहीं से लाभ हो सकता है। शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में ख़ुशियाँ आने के योग हैं। इस दौरान आपको लोगों से मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। आपकी धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। इसके अलावा प्रेम में पड़े जातकों के प्रेम संबंधों में सफलता मिलने के प्रबल आसार हैं।

उपाय: बृहस्पतिवार के दिन केले के वृक्ष में चने की दाल चढ़ाएं।

कर्क राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए षष्ठम और नवम का स्वामी है। जिसके परिणामस्वरूप आपकी जिंदगी में उठा-पटक की स्थिति बनी रहेगी।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से अष्टम भाव में रहने वाला है। इस दौरान कर्क राशि के जातकों का आध्यात्मिक कामों में काफी मन लगेगा। हालाँकि आपके बच्चों के भाग्य में थोड़ी गिरावट आने की उम्मीद है। पिताजी के स्वास्थ का ख़ास ख्याल रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि इस दौरान उन्हें स्वास्थ संबंधी कोई परेशानी हो सकती है। इस दौरान आपको किसी अनचाही यात्रा पर भी जाना पड़ सकता है। हालाँकि आपने अगर किसी बैंक लोन के लिए आवेदन किया है तो इसमें आपको सफलता मिल सकती है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके सप्तम भाव में रहने वाला है। इस दौरान आपको व्यावसायिक मामलों में ज़बरदस्त सफलता मिलने के योग बन रहे हैं। इस दौरान कर्क जातकों को धन लाभ भी हो सकता है। समाज में आपके मान सम्मान में वृद्धि होने के प्रबल आसार हैं। इसके अलावा शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में उतार-चढ़ाव बनी रहने की भी स्थिति है। हालाँकि इसके बावजूद भी आपके बीच प्रेम भी बना रहेगा और रिश्तों में नज़दीकी भी रहेगी।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके अष्टम भाव में रहने वाला है। इस दौरान आपको आपके स्वास्थ्य के प्रति अधिक सचेत रहने की सलाह दी जाती है। अगर आप कोई लोन लेने की कोशिश में हैं तो इस दौरान आपको उसमें भी सफलता मिल सकती है। आपकी आध्यात्मिक मामलों में रूचि बढ़ेगी और आप किसी तरह की गूढ़ विद्या में सफलता मिलने के भी प्रबल आसार हैं।

उपाय: भूरे रंग की गाय को चने की दाल खिलाएं।

पढ़ें: शनि गोचर 2021 का राशिफल

सिंह राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए पंचम और अष्टम का स्वामी है। जिससे जातकों को काफी सकारात्मक परिणाम मिलने के आसार हैं।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके सप्तम भाव में रहने वाला है। जिससे प्यार में पड़े जातकों को काफी अच्छे परिणाम मिलने के आसार हैं। इस दौरान अविवाहित सिंह जातकों के विवाह के प्रबल योग बनते नज़र आ रहे हैं। इसके अलावा विवाहित जातकों के भी जीवन में प्रेम, सुख और समृद्धि आने की उम्मीद है। सिंह जातकों के जीवन साथी को उनके कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी। समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा और आपका स्वास्थ भी एकदम उत्तम रहेगा।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके षष्ठम भाव में रहने वाला है। जिसकी वजह से आपकी ज़िंदगी में भी उठा-पटक की स्थिति बनी रहने वाली है। इस दौरान आप अपना कोई कर्ज चुकाने में सफल हो सकते हैं। हालाँकि स्वास्थ के पहलू से आपको सतर्क रहने की ज़रूरत है नहीं तो आपको किसी बड़ी बीमारी के संकेत नज़र आ रहे हैं। आर्थिक दृष्टि से भी ये समय आपके लिए थोड़ा चुनौती-पूर्ण रहने वाला है क्योंकि इस दौरान आपके ख़र्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। हालाँकि आपके संतान को सुख मिलने के पूरे-पूरे योग हैं। सिंह जातकों को उनकी माता पक्ष के लोगों से किसी प्रकार की कोई समस्या होने की आशंका है।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके सप्तम भाव में रहने वाला है जिससे शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में ख़ुशियाँ आने के उम्मीद आपके जीवन-साथी का भरपूर सहयोग भी मिलेगा जिससे आपको आपके सभी कामों में सफलता मिलेगी। इस दौरान आपका आर्थिक पक्ष मज़बूत होगा क्योंकि आपकी आमदनी में बढ़ोतरी होने की प्रबल संभावनाएं हैं। आप-में कोई भी निर्णय लेने की क्षमता में भी वृद्धि हो सकती है। प्यार में पड़े जातकों के लिए ये समय सबसे उपयुक्त रहने वाला है क्योंकि इस दौरान उनके प्रेम विवाह के योग बन सकते हैं।

उपाय: प्रत्येक बृहस्पतिवार को पीपल वृक्ष को छुए बिना जल चढ़ाएं।

कन्या राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए चतुर्थ और सप्तम का स्वामी है। इस गुरु गोचर 2021 से कन्या राशि के जातकों को काफी नकारात्मक परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके षष्ठम भाव में रहने वाला है। जिससे अगर आप किसी तरह की प्रतियोगी परीक्षा में हिस्सा लेने के बारे में विचार कर रहे हैं तो आपको बहुत ही सोच-समझकर कदम आगे बढ़ाना चाहिए क्योंकि इस दौरान आपके परीक्षा में सफलता में काफी संदेह की स्थिति है। स्वास्थ का ख़ास ख्याल रखें क्योंकि इस दौरान आपके मोटापे में वृद्धि हो सकती है जिससे भविष्य में आपको काफी परेशानियां झेलनी पड़ेगी। आर्थिक दृष्टि से भी समय काफी चुनौती-पूर्ण रहने की आशंका है क्योंकि आपके ख़र्चों में इस दौरान बढ़ोतरी होगी। आपके काम में रुकावट आने की प्रबल उम्मीद है। इसके अलावा आपका आपके जीवन-साथी से संबंध भी थोड़ा उतार-चढ़ाव भरा रहने वाला है। क्योंकि इस दौरान आपके रिश्ते में खटास आ सकती है। इस दौरान प्रॉपर्टी विवाद की भी आशंका है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके पंचम भाव में रहेगा तब आपके संतान को स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई कष्ट हो सकता है। इस दौरान आपको शिक्षा में सफलता मिल सकती है लेकिन कुछ अवरोध भी रहेंगे। आर्थिक पहलू से समय काफी अच्छा क्योंकि आपकी आमदनी बढ़ेगी। समाज में आपको मान-सम्मान भी मिलेगा।

20 नवंबर से आगे जब बृहस्पति आपकी राशि से आपके षष्ठम भाव में आएगा तब आपको अपनी सेहत का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है क्योंकि इस दौरान आपके स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में थोड़ा तनाव बढ़ेगा साथ ही उनके जीवन में सुख की भी कमी हो सकती है। आर्थिक दृष्टि से समय चुनौती-पूर्ण क्योंकि इस समय आपके ख़र्चों में बढ़ोतरी हो सकती है।

उपाय: गौमाता को गुड़ और गेहूं खिलाना बेहतर रहेगा।

तुला राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए तृतीय और षष्ठम का स्वामी है। जिससे तुला जातकों का ये समय काफी अच्छा जाने की उम्मीद है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक जब बृहस्पति आपकी राशि से आपके पंचम भाव में रहेगा तब तुला जातकों को शिक्षा के क्षेत्र में अपार सफलता मिल सकती है। इसके अलावा अगर कोई तुला जातक इस दौरान उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भी कदम आगे बढ़ता है तो उसे लाभ मिलेगा। शादीशुदा जोड़ों को इस समय संतान सुख की प्राप्ति हो सकती है। कुछ तुला जातकों के संतान का विवाह योग भी बनता नज़र आ रहा है। इस दौरान आपके संतान से आपको सुख की प्राप्ति होगी और आपकी आमदनी में भी बढ़ोतरी होने की प्रबल संभावना है। प्रेम की तलाश में जुटे जातकों की तलाश इस समय समाप्त हो सकती है। दोस्ती के क्षेत्र में भी ये आपके लिए अच्छा समय साबित हो सकता है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक जब बृहस्पति आपकी राशि से आपके चतुर्थ भाव में रहेगा तब आपको आपकी माता जी के स्वास्थ के प्रति काफी सजग रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि इस दौरान आपकी माता जी को स्वास्थ्य संबंधी कोई कष्ट हो सकता है। विदेशी लोगों के घर लौटने के लिए समय उपयुक्त। आपको इस दौरान अपने पूर्वजों के घर में रहने का सुख मिल सकता है। लम्बे समय से चल रहे किसी प्रॉपर्टी विवाद में आपको सफलता मिल सकती है।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके पंचम भाव में रहने वाला है। जिससे आपके संतान को सुख प्राप्त होगा। इसके अलावा शादीशुदा जातकों को संतान प्राप्ति की भी प्रबल संभावना है। आर्थिक दृष्टि से समय बेहतरीन होगा क्योंकि इस समय आपकी आमदनी बढ़ेगी। छात्र वर्ग के लोगों को उच्च शिक्षा में सफलता मिल सकती है। आपकी निर्णय लेने की क्षमता में बढ़ोतरी आएगी। ये समय आपके लिए ज्ञान की दृष्टि से भी काफी अच्छा जाने वाला है क्योंकि इस दौरान आपके अंदर ज्ञान प्राप्ति की इच्छा प्रबल होगी।

उपाय: सफेद रंग की गाय को आटे की लोई पर हल्दी का तिलक लगाकर खिलाएं।

वृश्चिक राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए द्वितीय और पंचम का स्वामी है। जिससे वृश्चिक राशि के जातकों को साल भर मिले-जुले परिणाम मिलते रहेंगे।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके चतुर्थ भाव में रहने वाला है जिससे आपके परिवार में कुछ दिक्कतें आ सकती हैं। जितना हो सके उनसे सावधान रहने की कोशिश करें। इस समय आपके घरेलू खर्च में वृद्धि आ सकती है लेकिन अगर आप घर या प्रॉपर्टी खरीदने की सोच रहे हैं तो ये समय आपके लिए फायदे करवा सकता है। माता जी के कुछ खर्चें बढ़ सकते हैं। ये समय आपके संतान के लिए थोड़ा अनुकूल नहीं होने की भी आशंका है। हालाँकि किन्ही कारणवश उन्हें कहीं बाहर जाना पड़ सकता है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके तृतीय भाव में रहने वाला है। जिसके प्रभाव से आपको आपकी यात्राओं में सफलता मिलने के योग हैं। आप इस समय में अपने छोटे भाई बहनों के प्रति अधिक संजीदा रहने वाले हैं। आपकी धार्मिक मामलों में ज्यादा रूचि रहने वाली है। वृश्चिक राशि के जातकों के तरक्की के प्रबल योग हैं। इस दौरान आपको धन प्राप्ति के भी योग हैं।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके चतुर्थ भाव में रहने वाला है। आपके परिवार में लंबे समय से चली आ रही तनातनी इस समय कम या खत्म हो सकती है। आप गुरु के इस गोचर के दौरान कोई प्रॉपर्टी खरीदने का विचार कर सकते हैं। आपकी आपके संतान से किन्ही कारणवश दूरी होने की भी आशंका है। घर खर्च में थोड़ी वृद्धि आ सकती है। आप इस दौरान घर का रिनोवेशन भी करवाने के बारे में सोच सकते हैं।

उपाय: उत्तम गुणवत्ता का पुखराज रत्न बृहस्पतिवार के दिन सोने की मुद्रिका में तर्जनी उंगली में धारण करना बेहतर रहेगा।

धनु राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए प्रथम और चतुर्थ भाव का स्वामी है। गुरु गोचर के प्रभाव से इस साल आपको इसके काफी अच्छे परिणाम मिलने की उम्मीद है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके तृतीय भाव में रहने वाला है। इस दौरान आपकी कुछ छोटी दूरी की यात्राओं के योग हैं। आप इस समय किसी तीर्थ-स्थल पर भी जा सकते हैं। आप अपने छोटे भाई-बहनों का भरपूर सहयोग करेंगे। हालाँकि माता-जी के स्वास्थ के प्रति सजग रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि उन्हें स्वास्थ सम्बन्धी कष्ट परेशान कर सकते हैं। निजी प्रयासों में आप कहीं से भी कमी ना आने दें क्योंकि इससे आपको धन लाभ हो सकता है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वितीय भाव में रहने वाला है जिससे आपके परिवार में तनाव के बाद कुछ शांति आने की संभावना है। गुरु के गोचर के दौरान अगर आप प्रॉपर्टी को किराए पर देते हैं या उसे बेचते हैं तो उससे भी आपको धन लाभ हो सकता है। आपकी माता जी भी आपका लाभ करा सकती हैं। आप इस दौरान अपने घर के लोगों के प्रति ज़्यादा सहानुभूति रखेंगे। इस दौरान आपको स्वादिष्ट खाना खाने को मिलेगा।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके तृतीय भाव में रहने वाला है जिससे आपके अंदर आलस्य की वृद्धि हो सकती है। जिससे आपके कामों में रुकावट आने की भी स्थिति पैदा हो सकती है। आपका मन धार्मिक काम-काज की तरफ ज्यादा लगेगा। कहीं से आपकी आमदनी बढ़ने के रास्ते भी खुल सकते हैं। आप इस दौरान अपने भाई-बहनों का भी साथ देंगे। आपके यात्रा के भी प्रबल योग बनते नज़र आ रहे हैं।

उपाय: पुखराज अथवा सुनहला रत्न तर्जनी अंगुली में शुक्ल पक्ष के बृहस्पतिवार के दिन धारण करना उत्तम फलदायक साबित होगा।

मकर राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए द्वादश और तृतीय भाव का स्वामी है। जिससे आपको सकारात्मक फल मिलने के आसार हैं।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वितीय भाव में रहने वाला है। आपको इस दौरान आपके छोटे भाई-बहनों का भरपूर सहयोग मिलेगा। इस दौरान मकर राशि के जातकों के घर में खुशहाली का माहौल रहने वाला है। आपके परिवार में कोई नया सदस्य आ सकता है या किसी के विवाह से घर में उत्सव का माहौल रहने की उम्मीद है। इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति भी काफी अच्छी रहने वाली है क्योंकि आपके विदेशों स्रोतों से धन के लाभ होने के आसार हैं।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके प्रथम भाव में रहने वाला है। ये समय आपके लिए काफी बेहतर जाने वाला है। आर्थिक दृष्टि से भी ये समय मकर राशि के जातकों के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है क्योंकि इस दौरान आपको विदेशी स्रोतों से लाभ होने की प्रबल उम्मीद है। निजी प्रयासों में कोई कमी ना आने दें क्योंकि आपको इनसे सफलता मिलने के पूरे-पूरे योग बन रहे हैं। अगर इस दौरान आप कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेते हैं तो उसमें आपको सफलता अवश्य मिलेगी।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वितीय भाव में रहने वाला है। इस दौरान आप अपनी मीठी वाणी से सब का मन मोहने में सफलता हासिल कर सकेंगे। आपकी आर्थिक स्थिति मज़बूत होगी क्योंकि आपकी आमदनी में बढ़ोतरी होने के आसार हैं। ये समय आपके लिए इसलिए भी ख़ास होने वाला है क्योंकि इस दौरान आपको कुछ खोने के बाद कुछ पाने का भी सुख मिलेगा। छोटे भाई बहनों से सुख प्राप्ति के प्रबल योग बन रहे हैं और उनका भरपूर सहयोग भी मिलेगा।

उपाय: पीले रंग के चावल बना कर बृहस्पतिवार के दिन लोगों को बाँटना बेहतर रहेगा।

कुंभ राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए एकादश और द्वितीय भाव का स्वामी है। जिससे आपको इसके मिले-जुले परिणाम साल भर मिलते रहेंगे।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके प्रथम भाव में रहने वाला है। जिसके फलस्वरूप आपके मानसिक तनाव में कमी आने के बेहतर संयोग बनते नज़र आ रहे हैं। आप में इस दौरान निर्णय लेने की क्षमता और भी ज़्यादा बेहतर होने की उम्मीद है। शादीशुदा दंपत्ति के जीवन में इस दौरान अशंतोष रहने की प्रबल संभावना है। प्यार में पड़े जातकों के लिए अच्छा समय क्योंकि उन्हें प्रेम संबंधों में सफलता मिलने के योग बनते नज़र आ रहे हैं। इसके अलावा इस दौरान आपके भाग्य की वृद्धि होने की भी आशंका है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वादश भाव में रहने वाला है। जिससे आपके ख़र्चों में ज़बरदस्त बढ़ोतरी होने की आशंका बनती नज़र आ रही है। कुंभ जातकों को इस समय अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि उन्हें स्वास्थ के मामले में कुछ परेशानियां और रोग होने की प्रबल संभावना बन रही है। आर्थिक मामलों में अधिक सावधान रहने की ज़रूरत क्योंकि इस दौरान आपकी आमदनी में गिरावट होने की आशंका है। इस दौरान आपको धन हानि की भी आशंका हैं।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके प्रथम भाव में रहने वाला है। इस दौरान आप अगर कोई निर्णय लेते हैं तो उसमें आपको सफलता अवश्य मिलेगी। अगर आपकी कोई भी लम्बे समय से अटकी परियोजना चली आ रही है तो इस दौरान वो अटकी हुई परियोजनाओं चालू होने की प्रबल संभावना है। प्यार में पड़े जातकों के लिए बेहतर समय क्योंकि इस दौरान उन्हें प्रेम संबंधों में सफलता मिल सकती है। शादीशुदा जातकों के दांपत्य जीवन में प्रेम और ख़ुशियाँ आएँगी। समाज में आपकी स्थिति बेहतर होने की संभावना। आर्थिक दृष्टि से समय अनुकूल रहेगा क्योंकि इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति मज़बूत रहने वाली है।

उपाय: विद्यार्थियों को बृहस्पतिवार के दिन पढ़ने की सामग्री भेंट करें।

मीन राशि

बृहस्पति इस साल आपकी राशि से आपके लिए दशम और प्रथम भाव का स्वामी है। जिससे मीन जातकों को काफी मिले-जुले परिणाम मिलने की प्रबल संभावना है।

6 अप्रैल से 15 सितंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वादश भाव में रहेगा जिससे आपको स्वास्थ सम्बन्धी कोई परेशानी हो सकती है इसलिए अपने स्वास्थ का ध्यान रखें। इसके अलावा इस समय मीन जातकों के विदेश जाने के भी योग बनते नज़र आ रहे हैं। आर्थिक मामलों में समझदारी दिखाने की सलाह दी है इस दौरान आपके काफी खर्चें हो सकते हैं। धर्म-कर्म से जुड़े मामलों में आप बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगे। काम के सिलसिले में आपको कहीं दूर यात्रा पर भी जाना पड़ सकता है।

15 सितंबर से 20 नवंबर तक बृहस्पति आपकी राशि से आपके एकादश भाव में रहने वाला है। इस दौरान कार्य क्षेत्र में आपको ज़बरदस्त सफलता मिलने के योग हैं। इसके अलावा आर्थिक दृष्टि से भी यह समय आपके लिए काफी अच्छा जाने की उम्मीद है क्योंकि इस दौरान आपके धन लाभ के भी प्रबल योग बनते नज़र आ रहे हैं। इस दौरान आपके सामने एक से अधिक धन कमाने के रास्ते खुलते जायेंगे जिससे आपको निश्चित ही लाभ मिलने की संभावना है। इस समय के दौरान आपका धार्मिक कार्यों में ज़्यादा मन लगेगा। प्रेम में पड़े जातकों को उनके प्रेम संबंधों में सफलता मिलने के भी योग हैं। कुछ प्रेमी जातकों को प्रेम विवाह की भी सौगात मिल सकती है। कार्य-क्षेत्र में आपके रिश्ते आपके वरिष्ठ अधिकारियों से अच्छे रहेंगे जिससे आपको निश्चित ही लाभ मिलेगा।

20 नवंबर से आगे बृहस्पति आपकी राशि से आपके द्वादश भाव में रहने वाला है। 2021 गुरु गोचर के प्रभाव से आपके ख़र्चों में बढ़ोतरी आने की उम्मीद है। इसके अलावा आपको स्वास्थ्य संबंधी कुछ दिक्कतें भी परेशान कर सकती हैं। पैरों में किसी कारणवश कष्ट हो सकता है। गुरु के गोचर के दौरान आपको विदेशी माध्यमों से लाभ मिलने के भी प्रबल आसार हैं। शत्रुओं से बच कर रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि वो आपको किसी प्रकार से कष्ट दे सकते हैं। यदि कोई कोर्ट कचहरी से जुड़ा मामला है तो उसमें घाटा हो सकता है। इसके अलावा इस समय आपका आध्यात्मिक कार्यो में मन लगेगा और आप उसमें खर्चे करने से भी नहीं झिझकेंगे।

उपाय: देव गुरु बृहस्पति के बीज मंत्र ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः का जाप करना बेहतर रहेगा।

More from the section: Horoscope 2962
2021 Articles
Buy Today
Gemstones
Get gemstones Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com More
Yantras
Get yantras Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com More
Navagrah Yantras
Get Navagrah Yantras Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroSage.com More
Rudraksha
Get rudraksha Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com More
Today's Horoscope

Get your personalised horoscope based on your sign.

Select your Sign
Free Personalized Horoscope 2022
© Copyright 2021 AstroCAMP.com All Rights Reserved