• Talk To Astrologers
  • Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Child Report 2022
  • Raj Yoga Report
  • Career Counseling
Personalized
Horoscope

प्रेम राशिफल ‌2023 ‌-‌ ‌Love‌ ‌Rashifal‌ ‌2023

Author: Vijay Pathak | Last Updated: Tue 13 Sep 2022 8:48:16 PM

प्रेम राशिफल 2023 (Love Rashifal 2023) का एस्ट्रोकैंप का ये लेख पूरी तरह वैदिक ज्योतिष पर आधारित है। जिसे स्वयं हमारे विद्वान व विशेषज्ञ ज्योतिषियों से आने वाले नववर्ष के अनुसार सभी ग्रहों-नक्षत्रों की गणना के आधार पर ख़ास अपने पाठकों के लिए तैयार किया है। जिसके कारण इसकी सत्यता और सटीक भविष्यवाणी हर राशि के जातकों को अपने प्रेम जीवन से जुड़े हर सवाल का जवाब देने में समर्थ है।

प्रेम राशिफल 2023

ऐसे में यदि आप ये जानने के इच्छुक हैं कि आने वाला नया साल आपके प्रेमी संग संबंधों में क्या कुछ बड़े बदलाव लेकर आएगा? आपकी लव लाइफ इस वर्ष कितनी परवान चढ़ेगी? क्या आपको प्रेम विवाह में सफलता मिलेगी या नहीं? किन-किन राशियों के लिए वर्ष 2023 प्रेम संबंधों में चुनौतियां लेकर आ रहा है? क्या आपको इस वर्ष अपना सच्चा प्रेमी मिलने के योग बनेंगे या अभी और प्रतीक्षा करनी होगी? क्या आपको प्रेमी से इस वर्ष धोखा मिलेगा? नए साल में प्रेम जीवन से जुड़े सभी तरह के सवाल आपको इस विस्तृत वार्षिक लव राशिफल 2023 में मिल जाएंगे। इसके अलावा अगर आपको व्यक्तिगत रूप से अपने प्रेम जीवन में किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान चाहिए तो अभी कॉल या चैट पर बात करें हमारे सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से

राशिफल 2023 पर अगर नज़र डालें तो, वर्ष 2023 की शुरुआत यानी जनवरी में ही जहां शनि देव अपनी स्वराशि मकर से निकलकर अपनी दूसरी राशि कुंभ में गोचर करेंगे। वहीं बृहस्पति भी शुरुआत से 22 अप्रैल तक अपनी स्वराशि मीन में उपस्थित होंगे। ऐसे में शनि-बृहस्पति की ये स्थिति कई प्रेमी जातकों को वर्ष की शुरुआत में लव लाइफ से जुड़े अनुकूल परिणाम देने के योग बनाएगी। हालांकि उसके बाद 22 अप्रैल 2023 बृहस्पति अपना पुनः गोचर करते हुए मेष राशि में प्रवेश कर जाएंगे। साथ ही 17 जून से शनि भी अपनी वक्री अवस्था शुरू कर देंगे। इसके अलावा छायाग्रह राहु-केतु भी वर्ष की शुरुआत में क्रमशः मेष और तुला राशि में होंगे। फिर 30 अक्टूबर को दोनों अपना गोचर करते हुए जहाँ राहु मीन में तो वहीं केतु कन्या में प्रवेश कर जाएंगे। इनके अतिरिक्त बुध, मंगल, सूर्य, शुक्र आदि जैसे अन्य ग्रह भी वर्षभर अलग-अलग राशि में अपना गोचर करते हुए लोगों के प्रेम व शादीशुदा जीवन को प्रभावित करेंगे।

वर्ष 2023 में ग्रहों की ये स्थिति इस साल सबसे अधिक प्रेमी जातकों की निजी इच्छाओं में वृद्धि करते हुए, उन्हें शादी के बंधन में बंधने के योग बनाएगी। खासतौर से वो प्रेमी जातक जो लम्बे समय से प्रेम विवाह का सोच रहे थे, उनके प्यार को इस वर्ष घरवालों की मंजूरी मिल सकती है। हालांकि इसके लिए उन्हें बहुत प्रयत्न करने होंगे।

क्या आपकी कुंडली में हैं शुभ योग? जानने के लिए अभी खरीदें बृहत् कुंडली

ज्योतिष शास्त्र में प्रेम जीवन से जुड़ी भविष्यवाणी निकलने के लिए सही गणना भौतिक सुखों के देवता शुक्र ग्रह से की जाती है। हालांकि शुक्र जिसे एक शुभ ग्रह माना गया है, उस पर अन्य ग्रहों का प्रभाव व दृष्टि भी व्यक्ति के प्रेम संबंधों में शुभ-अशुभ फल निश्चित करता है। इसी संदर्भ में हम इस लेख में अपने सभी पाठकों को हर ग्रह द्वारा उनके प्रेम जीवन में पड़ने वाले प्रभावों से जुड़ी संपूर्ण जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

तो चलिए अब बिना देर किये पढ़ते हैं वार्षिक लव राशिफल 2023 (Love horoscope 2023 in hindi) को और जानते हैं कि आने वाले नववर्ष में किस-किस अवधि में आपको प्रेम जीवन से जुड़ी समस्या मिलने की आशंका अधिक रहेगी। ताकि आप स्वयं को पहले से ही हर चुनौती के लिए तैयार करते हुए, उससे बचने हेतु ज़रूरी कदम उठा सकें। क्योंकि इस लेख में आपको राशिनुसार ज्योतिषीय सरल व कारगर उपाय भी दिए जा रहे हैं। तो आइए पढ़ें सभी राशियों के लिए एस्ट्रोकैंप का प्रेम राशिफल 2023:-

Read in English: Love Horoscope 2023

मेष राशि का प्रेम राशिफल 2023

प्रेम राशिफल 2023 (Love Rashifal ‌ 2023) को देखें तो नववर्ष मेष राशि के प्रेम संबंधों व दांपत्य जीवन में उतार-चढ़ाव लेकर आ रहा है। क्योंकि इस वर्ष छाया ग्रह राहु- केतु शुरुआत से लेकर 30 अक्टूबर तक, क्रमशः आपके प्रथम व सप्तम भाव में विराजमान होते हुए सबसे अधिक शादीशुदा जातकों के जीवन में विपरीत परिस्थितियां उत्पन्न कर सकते हैं। साथ ही इस दौरान राहु का आपके वैवाहिक जीवन के सप्तम भाव को दृष्टि करना भी, दांपत्य जातकों को अपने रिश्ते में प्रेम की कमी व असंतुष्टि महसूस करवा सकता है।जिसके परिणामस्वरूप कुछ जातक इस दौरान किसी प्रकार के अफेयर में भी लिप्त होते हुए, अपने दांपत्य जीवन को हानि पहुंचा सकते हैं।

हालांकि इसके बाद जब 30 अक्टूबर को ये दोनों ही ग्रह अपना गोचर करेंगे और उस समय जहाँ राहु का आपकी राशि के द्वादश भाव में तो वहीं केतु का षष्टम भाव प्रवेश होगा। जिससे सबसे अधिक प्रेमी जातकों को किसी कारणवश अपने प्रियतम से दूर जाना पड़ सकता है।

इसके अलावा राशिफल 2023 यह संकेत भी दे रहा है कि 17 जनवरी से शनि देव आपके एकादश भाव में गोचर करते हुए, आपके पंचम भाव पर अपनी दृष्टि डालेंगे। साथ ही जनवरी से 22 अप्रैल तक गुरु का स्वयं की मीन राशि में उपस्थित होते हुए आपके द्वादश भाव में होना भी, निजी संबंधों में कुछ समस्या उत्पन्न करने का कारण बनेगा। जिसके चलते नए रिलेशनशिप में आए प्रेमी जातकों का अपने प्रियतम संग छोटी-छोटी बात को लेकर झगड़ा हो सकता है। इस दौरान शनि देव आपकी इच्छाओं में वृद्धि भी करेंगे, जिससे आप अपने प्रेमी से जरूरत से ज्यादा अपेक्षा रख सकते हैं।

हालांकि 22 जनवरी को शुक्र देव भी आपके एक एकादश भाव में गोचर करते हुए शनि के साथ युति करेंगे। इससे मेष जातकों को अपनी लव लाइफ में कुछ सुधार नजर आएगा और वे अपने रिश्ते में आ रहे विवादों व झगड़ों का हल निकालते हुए आपस में सुलह करते दिखाई देंगे।

वहीं बृहस्पति भी 22 अप्रैल के बाद जब अपनी राशि मीन से निकलकर आपके प्रथम भाव में गोचर करेंगे। तब प्रेम संबंधों व वैवाहिक जीवन में आ रही कई समस्याओं से आपको काफी हद तक निजात मिल सकेगी। क्योंकि इस दौरान बृहस्पति का आपकी राशि में गोचर करना, आपके लिए अनुकूल साबित होगा। साथ ही इस समय बृहस्पति आपके सप्तम भाव पर अपनी पूर्ण दृष्टि भी डालेंगे। ये स्थिति कई नवविवाहित जातकों को संतान सुख से जुड़ा कोई शुभ समाचार मिलने के योग बनाएगी।

परंतु एस्ट्रोकैंप के ज्योतिषाचार्य की मानें तो, 22 अप्रैल से गुरु बृहस्पति का आपकी राशि में गोचर करना, वहां पहले से उपस्थित राहु के साथ उनकी युति बनाएगा। गुरु-राहु की ये युति आपके लग्न यानी प्रथम भाव में “चांडाल योग” का निर्माण करेगी, जो आपकी लव लाइफ में भरोसे की कुछ कमी से जुड़े कुछ मुद्दों को जन्म दे सकती है। हालांकि आप अपनी समझ का परिचय देते हुए, काफी हद तक आपस के हर विवाद को दूर कर अपने रिश्ते को मजबूत बनाने में भी सक्षम रहेंगे।

फिर वर्ष के अंतिम 2 महीने यानी नवंबर और दिसंबर आपके लिए सामान्य से अधिक अनुकूल रहेंगे। क्योंकी 30 नवंबर को शुक्र अपनी ही राशि तुला में गोचर करते हुए, आपको निजी संबंधों में लाभ देने की संभावना बढ़ाएगा। ऐसे में शुक्र की यह स्थिति शादीशुदा जातकों को भी अपने जीवन साथी से कोई आर्थिक मुनाफा होने के योग दर्शाएगी, जिससे आप दोनों के संबंधों में मजबूती देखी जाएगी।

उपाय: नियमित रूप से हर मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ कीजिए।

वर्ष 2023 का मेष राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – मेष राशिफल 2023

वृषभ राशि का प्रेम राशिफल 2023

वृषभ प्रेम राशिफल 2023 (Vrishabh Prem Rashifal 2023) के अनुसार, वृषभ राशि के

प्रेम जीवन के लिए आने वाला नव वर्ष सामान्य से थोड़ा बेहतर ही रहने की उम्मीद है। क्योंकि इस वर्ष की शुरुआत से 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपके लाभ के एकादश भाव में उपस्थित होते हुए आपको प्रेम संबंधों और वैवाहिक जीवन से जुड़े उत्तम फल देने के योग बनाएंगे। इस दौरान प्रियतम/साथी संग आपका रिश्ता परवान चढ़ेगा। साथ ही वो प्रेमी जातक जो लंबे समय से रिलेशन मे हैं, उन्हें अपने प्रियतम से विवाह करने का अवसर भी इस वर्ष मिलने की संभावना रहेगी।

वार्षिक भविष्यकथन ये भी बता रहा है कि, 17 जनवरी को जहां शनि देव आपके दशम भाव में गोचर करेंगे। वहीं शुक्र का भी 22 जनवरी को आपके दशम भाव में ही प्रवेश करते हुए, शनि के साथ युति बनाना काफी हद तक निजी जीवन में आपको अच्छे फल देने वाला है। इस दौरान आपको अपने प्रियतम या जीवनसाथी के चलते मान-सम्मान मिलेगा। साथ ही आप उनकी मदद से कोई बड़ी कामयाबी भी हासिल करने में पूरी तरह सक्षम रहेंगे। इसका सकारात्मक असर सीधेतौर पर आपके संबंधों में नयापन व मजबूती लेकर आएगा।

इसके बाद 15 फरवरी को शुक्र मीन राशि में प्रवेश करते हुए, वहां पहले से उपस्थित गुरु बृहस्पति के साथ अपनी युति बनाएंगे। इन दोनों ही शुभ ग्रहों की युति का ये प्रभाव, आपको अपने साथी व प्रेमी के प्रति चुंबकीय तरीके से आकर्षित करेगा। खासतौर से यदि आप सिंगल है तो इस दौरान आपका किसी विपरीत लिंगी व्यक्ति की ओर आकर्षण बढ़ेगा और आप उनसे अपनी दोस्ती की शुरुआत करने के लिए प्रयासरत दिखाई देंगे।

फिर 1 जुलाई को मंगल और 7 जुलाई को शुक्र दोनों ही सिंह राशि में गोचर करते हुए, आपके चतुर्थ भाव में विराजमान हो जाएंगे। इसके फलस्वरूप आपकी काम वासना में अधिकता देखी जाएगी और आपके लिए अपनी यौन इच्छाओं पर नियंत्रण रखना खासा मुश्किल साबित होगा। ऐसे में आपके लिए बेहतर यही होगा कि मर्यादित आचरण बरतें, अन्यथा आपका यह स्वभाव आपके साथी को परेशान कर सकता है।

वर्ष के अंतिम भाग में जब 30 अक्टूबर को राहु-केतु क्रमशः आपके एकादश और पंचम भाव में गोचर करेंगे। तब आप अपने साथी के साथ समय व्यतीत करने के लिए किसी पिकनिक, रोमांटिक डेट या किसी छोटी दूरी की यात्रा पर जाने का प्लान कर सकते हैं। हालांकि आपको सलाह दी जाती है कि कोई भी योजना बनाते समय अपने प्रेमी की मंजूरी जरूर लें, अन्यथा उन्हें बुरा लग सकता है।

उपाय: महिलाओं का आदर करें और उन्हें श्रृंगार की सामग्री भेंट करे।

वर्ष 2023 का वृषभ राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – वृषभ राशिफल 2023

मिथुन राशि का प्रेम राशिफल 2023

मिथुन प्रेम राशिफल 2023 (Mithun Love Rashifal 2023) के अनुसार, आपके लिए वर्ष का उत्तरार्ध, पूर्वार्द्ध की तुलना में अधिक उत्तम रहने वाला है। क्योंकि 17 जनवरी को जहां शनि अपनी ही राशि कुंभ में गोचर करेंगे। तो वहीं 22 जनवरी को शुक्र और 13 फरवरी को सूर्य भी कुंभ राशि में अपना गोचर करते हुए, आपकी राशि के भाग्य यानी नवम भाव को प्रभावित करेंगे। ग्रहों की इस स्थिति के कारण आपके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में कुछ मुद्दे उत्पन्न हो सकते हैं, जिससे आपके लिए अपने निजी जीवन पर ध्यान देना थोड़ा मुश्किल रहेगा। ये परिस्थितियां आपके और साथी के बीच कुछ दूरियां बढ़ा सकती हैं।

इसके अलावा वर्ष की शुरुआत से लेकर 22 अप्रैल तक, गुरु बृहस्पति भी आपकी राशि के दशम भाव में उपस्थित होंगे। साथ ही 15 फरवरी को भौतिक सुखों के देवता शुक्र का भी मीन में गोचर करते हुए वहां पहले से उपस्थित बृहस्पति के साथ युति करना, आपकी भौतिक इच्छाओं में काफी तेजी से बढ़ोतरी लेकर आएगा। जिसके चलते आप भोग-विलास में अधिक लिप्त नजर आएंगे। गुरु बृहस्पति और शुक्र की ये युति कुछ प्रेमी जातकों की अपने साथी से यौन इच्छाओं से जुड़ी उम्मीद बढ़ाएगी, जिसके पूरा ना होने से आप दोनों के रिश्ते में कुछ विश्वास की कमी देखी जाएगी।

हालांकि 22 अप्रैल के बाद जब गुरु बृहस्पति अपना गोचर करते हुए आपके एकादश भाव में प्रवेश करेंगे, तो आप अनुकूल फलों की अनुभूति करते हुए अपने प्रेम संबंधों और विवाहित जीवन का आनंद उठाएंगे। इस दौरान जहां प्रेमी जातकों को अपने रिश्ते में प्रेम व स्नेह की प्राप्ति होगी। वहीं वैवाहिक जातक भी आपस में किसी योजना को लेकर विचार-विमर्श करते दिखाई देंगे। साथ ही गुरु बृहस्पति के साथ राहु का अप्रैल के आखिरी सप्ताह से लेकर 30 अक्टूबर तक आपके एकादश भाव में उपस्थित होना, आपके रिश्ते में समझ की बढ़ोतरी करेगा। इसका सीधा असर विवाह के बंधन में बंधने की सोच रहे जातकों के लिए अनुकूल योग बनाने वाला है।

हालांकि 23 जुलाई को शुक्र का वक्री होना आपको निजी जीवन से जुड़ी कुछ चुनौतियां भी दे सकता है। ऐसे में प्रेम विवाह के लिए इच्छुक जातकों को इस अवधि में अपने घरवालों की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आपके लिए बेहतर यही होगा कि अभी कुछ समय प्रतीक्षा करें। खासतौर से सितंबर तक की अवधि आपके लिए थोड़ी प्रतिकूल रहेगी। फिर 4 सितंबर को जब शुक्र मार्गी होंगे, तब आप अपनी लव लाइफ में पुनः प्रेम की अनुभूति करेंगे।

फिर वर्ष की अंतिम तिमाही आपके लिए थोड़ी बेहतर रहेगी। क्योंकि जहां 30 अक्टूबर से केतु चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे, वहीं शुक्र भी चतुर्थ भाव में अपना गोचर करते हुए वहां उपस्थित केतु के साथ युति करेंगे। इस दौरान आपके रिश्ते में नयेपन की वृद्धि होगी। साथ ही आप दोनों अपने साथी के साथ मिलकर अपनी किसी अधूरी पड़ी इच्छाओं, शौक व कुछ एडवेंचर से जुड़ी गतिविधि करने का प्लान कर सकते हैं। कुछ जातक इस समय अपने जीवनसाथी के साथ किसी धार्मिक स्थल की यात्रा पर भी जाएंगे।

उपाय: भगवान शिव की आराधना करते हुए श्री शिव सहस्रनाम स्तोत्र का जाप करना भी आपके लिए अनुकूल रहेगा।

2023 का मिथुन राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – मिथुन राशिफल 2023

करियर परामर्श रिपोर्ट देगी आपको सफलता के लिए उचित सुझाव व उपाय

कर्क राशि का प्रेम राशिफल 2023

प्रेम वार्षिक राशिफल 2023 (Love Horoscope 2023) को समझें तो, कर्क राशि के जातकों के लिए आने वाला वर्ष प्रेम जीवन में अनुकूल परिणाम लेकर आ रहा है। खासतौर से वर्ष की शुरुआत आपके लिए बेहद शुभ रहेगी। क्योंकि शुरुआत से 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपकी राशि के नवम यानी भाग्य भाव में विराजमान रहते हुए, आपको अपने प्रेम संबंधों व वैवाहिक जीवन में पूर्व वर्ष की हर प्रकार की समस्याओं से निजात दिलाने का कार्य करेंगे। बृहस्पति की इस अनुकूल स्थिति से वो जातक जो किसी से एकतरफा प्रेम में है, उन्हें प्रेमी के समक्ष अपने दिल की बात खुलकर कहने का साहस मिलेगा। साथ ही संभावना अधिक है कि प्रियतम से आपको सकारात्मक प्रतिक्रिया भी मिले। वहीं वो जातक जो विवाह योग्य हैं या प्रेम विवाह करना चाहते हैं, उन्हें गुरु बृहस्पति के आशीर्वाद से भाग्य का साथ मिलेगा।

हालांकि 17 जनवरी को शनि का आपकी राशि के अष्टम भाव में गोचर करना, साथ ही 22 जनवरी को शुक्र का भी आपके अष्टम भाव में गोचर करते हुए शनि के साथ युति बनाना बीच-बीच में आपको लव लाइफ से जुड़ा तनाव देता रहेगा। क्योंकि शनि-शुक्र की ये स्थिति आपके साथी व प्रियतम को कुछ हानि या सेहत से जुड़ी समस्या दे सकती है। ऐसे में आपको एक अच्छे साथी की तरह उनकी देखभाल करने की सलाह दी जाती है।

फिर 30 मई को शुक्र आपकी ही राशि अर्थात आपके प्रथम भाव में गोचर करेंगे और उनका मिलन वहां पहले से मौजूद मंगल के साथ होगा। जिसके परिणामस्वरूप शुक्र-मंगल की युति बनेगी। आपके लग्न भाव में इस युति का बनना आपकी शांत पड़ी यौन इच्छाओं को जागृत करने का कार्य करेगा। इससे आपके स्वभाव में कई बदलाव आएंगे और आप अपने प्रियतम के साथ अपने रिश्ते को और मजबूत करने के इच्छुक दिखाई देंगे। हालांकि कुछ जातकों के साथी को इससे कुछ आपत्ति भी हो सकती है। ऐसे में आपको अपनी काम वासना को अपने ऊपर हावी न होने देने की सलाह दी जाती है।

भविष्यकथन 2023 यह भी संकेत भी दे रहा है कि जून और जुलाई का महीना आपके निजी जीवन को काफी हद तक प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने वाला है। क्योंकि 17 जून को जहां शनि वक्री गति आरंभ करेंगे, वहीं 23 जुलाई को शुक्र भी वक्री होते हुए आपकी लव लाइफ में विश्वास व धैर्य की कुछ कमी उत्पन्न कर सकते हैं। यदि आप शादीशुदा हैं तो इस दौरान आपके अपने ससुराल पक्ष के साथ संबंधों में कुछ कटुता नजर आएगी। यह स्थिति 4 सितंबर तक रहने वाली है, फिर उसके बाद शुक्र मार्गी होते हुए 2 अक्टूबर को आपके द्वितीय भाव में जब प्रस्थान कर जाएंगे। तब आप अपनी मीठी-मीठी बातों से अपने साथी का दिल जीतते हुए उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने में पुनः सफल रहेंगे।

वर्ष के अंतिम 2 महीने खासतौर से 30 अक्टूबर के बाद की अवधि, जब राहु आपके दशम भाव से निकलकर नवम भाव में प्रवेश करेंगे और केतु भी चतुर्थ भाव से निकलकर आपके तृतीय भाव में प्रस्थान कर जाएंगे। तब प्रेमी जातकों को जहां अपने भाई-बहनों की मदद से अपने रिश्ते में आ रही समस्याओं को दूर करने में मदद मिलेगी। वहीं विवाहित जातक भी अपने जीवनसाथी के साथ किसी धार्मिक व आध्यात्मिक क्षेत्र से जुड़ी यात्रा पर जाने का फैसला ले सकते हैं। ये वो समय होगा जब आप अपने साथी से अपने दिल की बात खुलकर कहने में समर्थ होंगे।

उपाय: हर शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करें व पीपल के वृक्ष को बिना छुए जल अर्पित करें।

वर्ष 2023 का कर्क राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – कर्क राशिफल 2023

पाएं अपनी कुंडली आधारित सटीक शनि रिपोर्ट

सिंह राशि का प्रेम राशिफल 2023

सिंह राशि का प्रेम राशिफल 2023 (Singh Love Rashifal) देखें तो, ये पता चलता है कि प्रेमी जातकों को इस वर्ष सामान्य से कम अनुकूल परिणाम प्राप्त होने की आशंका रहेगी। क्योंकि आपकी राशि में गुरु बृहस्पति जनवरी की शुरुआत से ही 22 अप्रैल तक अष्टम भाव में विराजमान रहेंगे। इसके परिणामस्वरूप सिंह जातकों को अपने प्रेम संबंधों और दांपत्य जीवन में कई प्रकार की चुनौतियों से दो-चार होना पड़ेगा।

इसके साथ ही 17 जनवरी 2023 को शनि देव अपनी स्वराशि कुंभ में गोचर करते हुए, आपके सप्तम भाव में विराजमान होंगे और आपके प्रथम भाव पर अपनी पूर्ण दृष्टि डालेंगे। इस कारण विवाह के योग्य जातकों को कोई अच्छा प्रस्ताव मिलने में अभी और कष्ट उठाने पड़ सकते हैं। साथ ही यदि आप शादीशुदा हैं तो इस दौरान आपके व्यवहार में आए नकारात्मक बदलावों के कारण, आपका अपने जीवनसाथी के साथ किसी कारणवश बड़ा विवाद होने की आशंका है।

हालांकि वर्षफल 2023 ये संकेत भी दे रहा है कि, 22 अप्रैल 2023 के बाद जब बृहस्पति आपकी राशि के नवम भाव में गोचर कर जाएंगे, तब उनकी युति वहां पहले से उपस्थित सूर्य के साथ होगी। सूर्य-गुरु की भाग्य स्थान में ये शुभ युति “उत्कृष्ट योग” का निर्माण करेगी, जिससे आपको सबसे अधिक अपने प्रेम संबंधों में फलदायी परिणाम प्राप्त होने के योग बनेंगे। साथ ही इस अवधि में आपको अपने परिवार के बड़े सदस्यों के मार्गदर्शन से अपने वैवाहिक जीवन में चल रही कई बड़ी समस्याओं को भी हल करने में मदद मिलेगी। यदि आप सिंगल हैं तो भी ये समय आपकी मुलाक़ात अपने सपनों के प्रेमी से करवा सकता है। संभावना अधिक है कि ये मुलाक़ात किसी पार्टी या किसी परिजन की मदद से हो।

फिर 17 जून को शनि का वक्री कई जातकों को अपने वैवाहिक जीवन में कुछ समस्या दे सकता है। खासतौर से वो जातक जिनकी अभी हाल ही में शादी हुई है, उन्हें इस दौरान अपने नए रिश्ते में ताजगी व नयापन बरकरार रखने के लिए उचित प्रयास करने की सलाह दी जाती है। 23 जुलाई को शुक्र भी आपकी राशि में अर्थात आपके प्रथम भाव में वक्री होंगे, जिसके कारण आपको अपने प्रेमी का अधिक फ़ोन इस्तेमाल करना खल सकता है। इससे आप न चाहते हुए भी अपने प्रेमी पर शक करते हुए अपने रिश्ते में विश्वास की कमी की अनुभूति करेंगे। ये स्थिति अगले महीने 18 अगस्त तक ऐसे ही बरकरार रहेगी, फिर उसके बाद शुक्र का उदय होना आपके प्रेम संबंधों में पुनः प्रेम और स्नेह की वृद्धि करेगा।

प्रेम भविष्यवाणी 2023 के अनुसार, वर्ष के अंतिम 2 महीनों में यानी नवंबर और दिसंबर में आपको अधिक सावधान रहने की ज़रूरत होगी। क्योंकि 30 अक्टूबर को छाया ग्रह राहु-केतु का आपकी राशि के क्रमर्शः अष्टम और द्वितीय भाव में गोचर करना, आपको निजी जीवन में कई प्रकार की चुनौतियां देने का कार्य करेगा। इस दौरान यदि आपकी संतान है तो उन्हें सेहत से जुड़ी या शिक्षा से संबंधित तनाव के कारण स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। वहीं प्रेम संबंधों में भी किसी तीसरे व्यक्ति का हस्तक्षेप आपके और प्रेमी के रिश्ते में दूरियां लाने की वजह बनेगा। ऐसे में आपके लिए बेहतर यही होगा कि अपनी संतान की देखभाल करें व अपने रिश्ते में किसी भी तीसरे व्यक्ति को न आने दें।

उपाय: अगर संभव हो तो किसी विष्णु मंदिर में जाकर पीले वस्त्र व पीली दाल का दान करें। क्योंकि ऐसा करना इस वर्ष आपके लिए अनुकूल रहने वाला है।

वर्ष 2023 का सिंह राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – सिंह राशिफल 2023

कन्या राशि का प्रेम राशिफल 2023

प्रेम राशिफल 2023 (Love ‌ ‌ Horoscope ‌ ‌2023 ‌in‌ Hindi‌) के अनुसार, कन्या राशि के जातकों के लिए आने वाले नव वर्ष की शुरुआत यूँ तो अच्छी रहेगी। परंतु वर्ष का दूसरा भाग कुछ धीमा हो सकता है। क्योंकि शुरुआत से लेकर 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपकी राशि के सप्तम भाव में विराजमान होते हुए, आपके प्रथम भाव पर अपनी दृष्टि डालेंगे। जिससे आप अपने अच्छे व्यवहार से अपने साथी को प्रसन्न करते हुए अपने निजी जीवन में अधिक बेहतर परिणाम हासिल करेंगे।

खासतौर से 15 फरवरी को जब शुक्र देव अपना गोचर करते हुए आपकी राशि के सप्तम भाव में विराजमान होंगे, तब उनका मिलान वहां पहले से उपस्थित गुरु के साथ होगा और आपकी राशि के सप्तम भाव में गुरु-शुक्र की इस शुभ युति का बनना आपके भोग-विलास व सांसारिक सुखों में वृद्धि करेगा। इससे कई जातक अपने साथी के साथ किसी छोटी दूरी की यात्रा, डिनर डेट या लॉन्ग ड्राइव पर जाने का प्लान बना सकता है। साथ ही ये योजना आप दोनों को एक दूसरे के नजदीक आने के अवसर भी देने वाली है। वो विवाहित जातक जो संतान प्राप्ति की योजना बना रहे थे, उन्हें भी इस दौरान कोई अच्छी खबर मिलने के योग बनते दिखाई दे रहे हैं।

राशिफल 2023 को समझें तो, 22 अप्रैल को जब गुरु बृहस्पति अपना गोचर करते हुए आपकी राशि के अष्टम भाव में विराजमान होंगे, तब आपको विवाह संबंधी कई प्रकार की समस्याएं मानसिक तनाव व बेचैनी दे सकती हैं। खासतौर से 23 जुलाई जब शुक्र अपना वक्री करेंगे, तब भी कई जातक जो अपने विवाह का सपना देख रहे थे उनका विवाह में देरी के कारण कॉन्फिडेंस गिर सकता है। यह नकारात्मक स्थिति इस वर्ष 4 सितंबर तक रहेगी। क्योंकि 4 सितंबर को शुक्र मार्गी होते हुए आपको निजी जीवन में पुनः सकारात्मकता देने का कार्य करेंगे।

इसके अलावा वर्ष की शुरुआत से 30 अक्टूबर तक राहु-केतु का आपकी राशि के क्रमर्शः अष्टम और द्वितीय भाव में विराजमान होना, आपको व आपके साथी/प्रियतम को कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्या देने का कार्य करेगा। इससे सेहत में गिरावट के कारण आप अपने संबंधों का आनंद नहीं उठा पाएंगे, जिससे आपका साथी आपसे नाराज़ या असंतुष्ट दिखाई देगा। फिर 30 अक्टूबर से राहु अपना गोचर करते हुए आपकी राशि के सप्तम भाव में, वहीं केतु भी आपके प्रथम भाव में विराजमान हो जाएंगे। राहु-केतु की ये स्थिति उन जातकों के लिए सबसे अधिक कष्टदायक रहेगी, जो अपने प्रेमी से अतिरिक्त किसी अन्य विपरीत लिंगी व्यक्ति के प्रति आकर्षण महसूस करेंगे। साथ ही इस दौरान आपका कोई छुपा पुराना राज भी साथी के सामने आने से आपकी परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए आपको कुछ भी ऐसा न करने की सलाह दी जाती है, जिससे आपके प्रेम संबंध खराब हो।

इस वर्ष ग्रहों-नक्षत्रों की चाल ये भी बता रही है कि वो प्रेमी जातक जो किसी रिलेशनशिप में है और प्रेम विवाह करने की योजना बना रहे हैं। उनके लिए इस वर्ष खासतौर से 22 अप्रैल से 30 अक्टूबर तक की अवधि अधिक प्रतिकूल रहने वाली है। क्योंकि इस अवधि में राहु-गुरु की युति आपके अष्टम भाव में “चांडाल योग” का निर्माण करेगी। इसलिए अपने प्रेमी को शादी के लिए प्रपोज करने के इच्छुक जातकों को, इस अवधि से अतिरिक्त 22 अप्रैल से पहले या 30 अक्टूबर के बाद अपने प्रेमी के समक्ष विवाह का प्रस्ताव लेकर जाना उचित रहने वाला रहेगा।

उपाय: नियमित रूप से मां लक्ष्मी अथवा देवी दुर्गा की उपासना करें। साथ ही इस वर्ष आपके लिए श्री सूक्त का पाठ करना भी अधिक अनुकूल रहने वाला है।

वर्ष 2023 का कन्या राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – कन्या राशिफल 2023

तुला राशि का प्रेम राशिफल 2023

(Libra Love Rashifal): तुला लव राशिफल 2023 की मानें तो, इस वर्ष की शुरुआत पूर्व की तुलना में आपके लिए थोड़ी कष्टदायक रहने वाली है। क्योंकि जनवरी की शुरुआत से गुरु बृहस्पति का 22 अप्रैल तक आपके षष्ठम भाव में और राहु का 30 अक्टूबर तक आपके सप्तम भाव में उपस्थित रहना, आपको अपने प्रेम संबंधों व वैवाहिक जीवन में कई प्रकार की चुनौतियां देने का कार्य करेगा।

इस दौरान यदि आप प्रियतम के साथ प्रेम विवाह करने की योजना बना रहे हैं तो, ऐसा करने से बचना चाहिए। साथ ही दांपत्य जातकों को भी अपने निजी जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण फैसले लेने से अभी बचने की सलाह दी जाती है, अन्यथा जीवन साथी से आपकी बहस या वाद-विवाद होने की आशंका रहेगी। कुछ जातकों की पैसों को लेकर भी साथी से बहस संभव है। साथ ही केतु भी आपके प्रथम भाव में उपस्थित होते हुए आपके व्यवहार में नकारात्मकता लाएंगे, जिसके चलते आपका रुझान किसी विपरीत लिंगी व्यक्ति की ओर बढ़ सकता है। इससे कुछ जातक किसी प्रकार के अफेयर में भी लिप्त हो सकते हैं।

हालांकि 17 जनवरी को शनि देव कुंभ राशि में गोचर करते हुए आपके पंचम भाव में विराजमान होंगे, जहां उनकी पूर्ण दृष्टि आपके सप्तम भाव पर होगी। साथ ही 22 जनवरी को शुक्र का गोचर भी आपके पंचम भाव में होने से, शुक्र का मिलन वहां पहले से उपस्थित शनि के साथ होगा। शनि-शुक्र की आपके पंचम भाव में ये युति, आपको लव लाइफ में कुछ हद तक राहत मिलने के योग बनाएगी। क्योंकि शनि देव आपको अपने कार्यक्षेत्र पर अधिक व्यस्त रखेंगे, जिससे रिलेशनशिप का तनाव आपको ज्यादा प्रभावित नहीं कर सकेगा।

भविष्यकथन 2023 ये भी बता रहा है कि, इसके बाद 22 अप्रैल 2023 से बृहस्पति अपना गोचर करते हुए आपके सप्तम भाव में विराजमान होंगे और आपके वैवाहिक जीवन में अनुकूलता लाने का कार्य करेंगे। इससे आपको अपने जीवनसाथी से हर पुराने गिले-शिकवे को दूर करते हुए, अपने संबंध को मजबूत करने में मदद मिलेगी। कुछ जातक साथी की मदद से कोई बड़ा लाभ अर्जित करने में भी सफल रहने वाले हैं।

फिर वर्ष के माध्यम में, 1 जुलाई को मंगल और 7 जुलाई को शुक्र दोनों ही आपकी राशि के एकादश भाव में गोचर करते हुए शुभ युति बनाएंगे। इसके चलते आपकी इच्छाओं में वृद्धि होगी। खासतौर से शादीशुदा जातक आपने साथी के साथ अधिक समय व्यतीत करते हुए, अपने दांपत्य जीवन का आनंद लेते दिखाई देंगे। परंतु वो जातक जो किसी रिलेशनशिप में हैं, उन्हें थोड़ा सावधान रहना होगा। क्योंकि ये युति उनकी काम-वासना में वृद्धि करेगी, जिससे वे अपने प्रेमी से हद पार करने की अपेक्षा करेंगे। आपकी ये इच्छाएं साथी को कुछ असहज महसूस करवा सकती है। इसलिए अपनी यौन इच्छाओं पर नियंत्रण रखते हुए आपको कुछ भी ऐसा न करने की सलाह दी जाती है, जिससे प्रेमी की नज़रों में आपकी छवि ख़राब हो।

वर्ष 2023 की भविष्यवाणी देखने पर ये भी ज्ञात होता है कि, वर्ष के अंतिम 2 महीने यानी नवंबर और दिसंबर माह आपके लिए अनुकूल परिणाम लेकर आ रहे हैं। क्योंकि 30 अक्टूबर से जहां राहु आपकी राशि के छठे भाव में तो, वहीं केतु द्वादश भाव में गोचर कर जाएंगे। जिसके चलते निजी जीवन में प्रेमी व वैवाहिक जातकों को पुनः प्रेम और स्नेह की अनुभूति होगी। ये वो समय होगा जब आप अपने रिश्ते में नयापन और विश्वास लौटते हुए देखेंगे। ऐसे में आपको इधर उधर की छोटी-छोटी बातों में समय न बर्बाद करते हुए, इस अवधि का उचित लाभ उठाने की सलाह दी जाती है।

तुला राशि के वो जातक जो अभी तक सिंगल हैं और विवाह के बंधन में बंधना चाहते हैं, उनके लिए इस वर्ष विशेषकर 23 जुलाई से 4 सितंबर तक की अवधि प्रतिकूल रहेगी। क्योंकि इस अवधि में शुक्र वक्री अवस्था में होंगे, इस कारण विवाह संबंधी कोई भी निर्णय लेना आपके लिए अशुभ सिद्ध होगा।

उपाय: शुक्रवार के दिन नियम अनुसार व्रत का पालन करें। साथ ही दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगें वस्त्र, चावल, इत्यादि का दान करें।

वर्ष 2023 का तुला राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – तुला राशिफल 2023

वृश्चिक राशि का प्रेम राशिफल 2023

वृश्चिक राशि के प्रेम राशिफल 2023 (Scorpio Love Life Horoscope 2023) को देखें तो ज्ञात होता है कि, आने वाला नववर्ष आपकी लव लाइफ में कई छोटे-बड़े परिवर्तन आने के योग बनाएगा। वर्ष का पूर्वार्ध आपके प्रेम संबंधों में मधुरता लेकर आएगा। क्योंकि इस साल जनवरी से 22 अप्रैल तक शुभ ग्रह बृहस्पति आपकी राशि के पंचम भाव में उपस्थित होंगे, जिसके चलते प्रेमी से प्रेम विवाह करने की सोच रहे जातकों को उनके आशीर्वाद से सफलता मिलेगी। साथ ही सिंगल जातकों को भी विवाह के कई सुंदर प्रस्ताव मिलने के योग बनेंगे।

साथ ही 17 जनवरी को शनि आपकी राशि के चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे, जिससे शादीशुदा जातक अपने साथी की मदद से कोई वाहन या घर खरीदने का प्लान बना सकते हैं। ये योजना सीधेतौर पर आपके दांपत्य जीवन में खुशियां लेकर आएगी।

इसके अतिरिक्त वार्षिक राशिफल 2023 के अनुसार, छाया ग्रह राहु-केतु भी शुरुआत से 30 अक्टूबर तक क्रमशः आपके षष्ठम व द्वादश भाव में विराजमान रहेंगे। इससे अक्टूबर के अंत तक की अवधि शादीशुदा जातकों के लिए अधिक उत्तम रहेगी। वो जातक जिनका प्रेमी विदेश रहता है, उन्हें इस इस वर्ष अपने प्रियतम से मिलने का अवसर प्राप्त होगा।

परंतु वर्ष का मध्य भाग यानी 23 जुलाई से 4 सितंबर तक, शुभ ग्रह शुक्र का वक्री होना आपके प्रेम संबंधों में कई चुनौतियां लेकर आने वाला है। ऐसे में यदि आप अपने प्रियतम को अपने परिवार वालों से मिलवाने का सोच रहे हैं तो इस अवधि में आपको ऐसा करने से बचना होगा। वहीं प्रेम विवाह के इच्छुक जातकों को भी यह समय सामान्य से प्रतिकूल ही परिणाम देने का कार्य करेगा।

फिर वर्ष के अंत में 30 नवंबर को शुक्र का तुला में गोचर करते हुए आपके द्वादश भाव में प्रवेश करना, कुछ प्रेमी जातकों का अपने प्रियतम के समक्ष अच्छा दिखने को लेकर बेकार का ख़र्चा करवा सकता है। ऐसे में एकतरफा प्रेमियों को प्रियतम की नाजायज़ मांगों को अधिक महत्व न देने की सलाह दी जाती है।

उपाय: हनुमान जी की उपासना करें और हर मंगलवार के दिन बजरंगबली को लाल चोला अर्पित करें।

वर्ष 2023 का वृश्चिक राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – वृश्चिक राशिफल 2023

संतान के करियर की हो रही है टेंशन! अभी आर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

धनु राशि का प्रेम राशिफल 2023

धनु प्रेम राशिफल 2023 (Love and Romance Life 2023 ) के अनुसार, इस नववर्ष की शुरुआत में अपने प्रेम संबंधों में मधुरता बनाए रखने के लिए आपको पूर्व से अधिक प्रयास करने होंगे। क्योंकि साल की शुरुआत से लेकर 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपकी राशि के चतुर्थ भाव में विराजमान होंगे। साथ ही इस दौरान राहु भी आपकी राशि के प्रेम संबंधों के पंचम भाव में विराजमान होते हुए, सबसे अधिक प्रेमी जातकों को अपने रिलेशनशिप से जुड़ी कई चुनौतियां देने का कार्य करेंगे।

इसके अलावा केतु का भी जनवरी से लेकर 30 अक्टूबर तक आपके इच्छाओं के एकादश भाव में विराजमान होना, आपके किसी नाजायज़ अफेयर्स की ओर इशारा कर रहा है। ऐसे में यदि आप शादीशुदा हैं तो आपको कुछ भी ऐसा करने से बचना होगा, जिसका नकारात्मक प्रभाव सीधेतौर पर आपके दांपत्य जीवन में समस्या उत्पन्न करे। कर्मफल दाता शनि भी 17 जनवरी से आपके तृतीय भाव में गोचर कर जाएंगे, जिससे अपने निजी जीवन में चल रही उठापटक के कारण आपके मानसिक तनाव में वृद्धि देखी जाएगी। इस दौरान आप अपने साथी से कम बातचीत करना पसंद करेंगे। गौरतलब है कि आपका ये व्यवहार आपके साथी को परेशान कर सकता है।

वार्षिक राशिफल 2023 यह भी दर्शा रहा है कि जब बृहस्पति 22 अप्रैल 2023 को मेष राशि में अपना गोचर करेंगे, तब उसका सकारात्मक प्रभाव आपके प्रेम संबंधों व वैवाहिक जीवन में अनुकूलता लाएगा। क्योंकि इस दौरान बृहस्पति आपकी राशि के पंचम भाव में गोचर करेंगे। कुंडली के इस भाव से प्रेम संबंधों का पता लगाया जाता है। ऐसे में इन पर शुभ ग्रह बृहस्पति का प्रभाव सीधेतौर पर आपके और साथी के रिश्ते में नयापन लाने का कार्य करेगा। इस समय आप अपने प्रेमी के साथ किसी रोमांचक या एडवेंचर ट्रिप पर जाते हुए एक-साथ समय व्यतीत करेंगे। कुछ जातक साथी के साथ किसी कला से जुड़ने का फैसला भी ले सकते हैं।

हालांकि इस समय राहु का पंचम भाव में ही होना गुरु के साथ युति करेगा। इससे 22 अप्रैल से 30 अक्टूबर तक गुरु-राहु का आपके पंचम भाव में युति करना आपको बीच-बीच में कुछ छोटी-मोटी प्रेम जीवन से जुड़ी समस्या दे सकता है। इससे आप अपने साथी पर बेवजह शक कर सकते हैं। ऐसे में आपके लिए बेहतर यही होगा कि अपने दिमाग में ख्याली पुलाव पकाने की जगह, समय रहते ही साथी से बातचीत कर अपने शक को हल करने का प्रयास करें। अन्यथा आगे चलकर आपका छोटा सा शक किसी बड़ी समस्या या मतभेद को जन्म दे सकता है।

भविष्यफल 2023 आपको वर्ष के माध्यम में सावधान होने के संकेत भी दे रहा है। क्योंकि जुलाई के अंतिम सप्ताह से शुक्र का वक्री होना, प्रेमी के साथ प्रेम विवाह करने के इच्छुक जातकों को असफलता मिलने के योग बनाएगा। ऐसे में यदि आप शादी के इच्छुक हैं या किसी को प्रपोज करना चाहते हैं तो, आपके लिए 23 जुलाई से 4 सितंबर तक की अवधि थोड़ी प्रतिकूल रहने वाली है।

हालांकि फिर 4 सितंबर से शुक्र पुनः मार्गी होते हुए आपको लव रिलेशन में सफलता देने का कार्य करेंगे। 30 अक्टूबर को केतु का आपकी राशि के दशम भाव में गोचर करना, साथ ही 3 नवंबर को शुक्र का भी आपकी राशि के दशम भाव में गोचर करते हुए वहां पहले से उपस्थित केतु के साथ युति करना, आपका रुझान धार्मिक क्षेत्र की ओर बढ़ाने वाला है। क्योंकि केतु-शुक्र की युति आपको निजी जीवन में सृजनात्मक रूप से अनुकूल परिणाम देने का कार्य करेगी। इससे आप पुराने हर विवाद या मसले को पीछे छोड़ते हुए, साथी के साथ नई संभावनाओं को तलाश करते देखे जाएंगे। कुछ नवविवाहित जातक परिवार वृद्धि करने का भी प्लान कर सकते हैं।

उपाय: हर गुरुवार के दिन कम से कम 108 बार गुरु बृहस्पति के बीज मंत्र “ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः” का जप करना, आपको निजी जीवन में सफलता देने का कार्य करेगा।

वर्ष 2023 का धनु राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – धनु राशिफल 2023

मकर राशि का प्रेम राशिफल 2023

मकर लव राशिफल 2023 (Makar Love Rashifal) के अनुसार, मकर राशि के प्रेमी जातकों के लिए ये नववर्ष सामान्य ही रहने वाला है। क्योंकि वर्ष की शुरुआत में जहां बृहस्पति आपकी राशि के तृतीय भाव में उपस्थित होंगे। वहीं कर्मफल दाता शनि भी 17 जनवरी को अपना गोचर करते हुए आपके द्वितीय भाव में विराजमान हो जाएंगे। इसी दौरान छाया ग्रह राहु-केतु का क्रमशः आपकी राशि के चतुर्थ व दशम भाव में उपस्थित होना, प्रेम संबंधों में चल रही उठापटक के कारण आपके मानसिक तनाव में वृद्धि का कारण बनेगा। इस दौरान आपके और साथी के बीच संवाद की काफी कमी रहेगी, जिसके पीछे का कारण कार्यक्षेत्र पर बढ़ता कार्यभार हो सकता है। आशंका ये भी है कि घर पर किसी परिजन की खराब सेहत के कारण भी आप अपने प्रेम संबंधों में जरूरत के अनुसार समय देने में असफल रहेंगे। ऐसे में अपने रिश्ते में मधुरता बनाए रखने के लिए आपको व्यक्तिगत रूप से अपने निजी जीवन के लिए पर्याप्त समय निकालने की आवश्यकता होगी।

ये चुनौतीपूर्ण स्थितियाँ खासतौर से जनवरी, फरवरी, मार्च और अप्रैल तक बनी रहेंगी। फिर 22 अप्रैल के बाद जब बृहस्पति अपना गोचर करते हुए आपकी राशि के चतुर्थ भाव में विराजमान हो जाएंगे, तो आपको कुछ हद तक परिस्थिति में सुधार देखने को मिलेगा। क्योंकि इस दौरान आप अपने साथी की मदद से कोई वाहन या घर खरीदने का प्लान कर सकते हैं। विशेषकर यदि आप शादीशुदा है तो आपका जीवनसाथी आर्थिक तौर पर आपको मदद करेगा, जिससे आप अपनी योजना पर सफलतापूर्वक अमल कर सकेंगे।

वार्षिक राशिफल 2023 ये भी दर्शा रहा है कि, वो प्रेमी जातक जो किसी रिलेशन में लम्बे समय से हैं और अपने प्रियतम की मुलाक़ात अपनी मां या घरवालों से करवाने का सोच रहे हैं तो, आपके लिए भी 22 अप्रैल से 23 जुलाई तक की अवधि उत्तम रहेगी। क्योंकि फिर उसके 23 जुलाई से शुभ ग्रह शुक्र का वक्री होना, आपको समस्या देने के योग बनाएगा।

2023 के अंतिम भाग में यानी 30 अक्टूबर को छाया ग्रह राहु-केतु का गोचर होगा। जिसके परिणामस्वरूप जहां राहु आपकी राशि के तृतीय भाव में गोचर करेंगे, तो वहीं केतु का गोचर भी आपकी राशि के भाग्य यानी नवम भाव में होने से आपको प्रेम संबंधों व वैवाहिक जीवन में अनुकूल परिणाम देखने को मिलेंगे।

हालांकि 22 अप्रैल से 30 अक्टूबर तक चतुर्थ भाव में गुरु-राहु की युति से “चांडाल योग” का निर्माण भी होगा। जिस कारण कुछ जातकों को विवाह से संबंधित अनुकूल परिणाम प्राप्त करने में काफी समस्या महसूस होगी। इसलिए यदि आप विवाह के लिए कोई प्रस्ताव लेकर जा रहे हैं या प्रेमी को प्रेम विवाह के लिए प्रपोज कर रहे हैं तो अभी ऐसा करने से बचें।

एस्ट्रोकैंप के विशेषज्ञ ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, मकर राशि के प्रेम संबंधों के लिए इस वर्ष मई, जून और जुलाई का समय सामान्य से अधिक बेहतर रहने वाला सिद्ध होगा। क्योंकि इस दौरान जहां आपके रिलेशनशिप में रोमांस की वृद्धि होगी, वहीं आप प्रेमी के समक्ष खुलकर अपनी भावनाओं को रखने में भी समर्थ रहेंगे।

उपाय: हर शनिवार के दिन शनिदेव की प्रतिमा पर बिना स्पर्श किए सरसों का तेल चढ़ाएं व कुत्ते को रोटी खिलाएं।

वर्ष 2023 का मकर राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – मकर राशिफल 2023

कुंभ राशि का प्रेम राशिफल 2023

कुंभ प्रेम राशिफल 2023 (Kumbh Prem Rashifal 2023) को देखें तो, आने वाला नववर्ष लव लाइफ में बहुत रोमांच लेकर आ रहा है। इस वर्ष की शुरुआत में यानी 17 जनवरी को शनि देव आपकी राशि में ही गोचर करते हुए आपके प्रथम भाव में विराजमान हो जाएंगे। वहीं 22 जनवरी को शुभ ग्रह शुक्र भी अपना गोचर आपके प्रथम भाव में करते हुए वहां मौजूद शनि के साथ अपनी युति बनाएंगे। ऐसे में शुक्र-शनि की इस युति से कुंभ राशि के जातकों को प्रेम जीवन में काफी मानसिक तनाव मिलेगा। इससे न प्रेमी जातक अपनी लव लाइफ का खुलकर आनंद ले सकेंगे और न ही शादीशुदा जातकों को अपने दांपत्य संबंधों से संतुष्टि महसूस होगी।

साथ ही जनवरी से 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपके द्वितीय भाव में उपस्थित होते हुए, आपकी वाणी में कुछ कड़वाहट ला सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप आप बहस करते हुए अपने साथी पर अभद्र टिप्पणी कर उनकी भावनाएं आहत कर देंगे। हालांकि बाद में आपको इसका पछतावा भी होगा। इसके अलावा 22 अप्रैल से अक्टूबर तक राहु का तृतीय भाव में होना गुरु-राहु की युति का निर्माण करेगा। इससे आपके रिलेशन को सुचारू रूप से चलाना आपकी मुश्किलें बढ़ा सकता है। परंतु इसी समय केतु का नवम भाव में उपस्थित होना, काफी हद तक आपकी लव लाइफ में भाग्य की वृद्धि करेगा। इसलिए आपको इधर-उधर किसी अन्य व्यक्ति की ओर खुद को केंद्रित न करते हुए, अपने निजी संबंधों में सुधार के लिए पर्याप्त प्रयास करने की ख़ास सलाह दी जाती है।

राशिफल 2023 ये भी दर्शा रहा है कि, 2 मई से 22 जुलाई तक भौतिक सुखों के देवता शुक्र आपकी राशि के पंचम भाव से होते हुए षष्ठम और सप्तम भाव में विराजमान रहेंगे। इससे आपको इस अवधि में सबसे उत्तम व सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे। फिर इसके बाद जब 23 जुलाई से शुक्र का वक्री होगा, तब सबसे अधिक वैवाहिक जातकों को विशेष सावधान रहने की ज़रूरत होगी।

विवाह के योग्य जातकों के लिए भी वर्ष का दूसरा भाग निराशा लेकर आएगा। क्योंकि 23 जुलाई से शुक्र वक्री गति आरंभ करेंगे, जिसके बाद वे 4 सितंबर को मार्गी होंगे। ऐसे में 23 जुलाई से लेकर 4 सितंबर तक की अवधि विवाह संबंधी किसी भी निर्णय के लिए अनुचित रहने वाली है। फिर 5 सितंबर से 30 अक्टूबर अपने निजी जीवन में खुशहाली लौट सकेगी। वो दांपत्य जातक जो अपने परिवार में विस्तार का सोच रहे थे, उन्हें इस समय कोई अच्छी खबर मिलेगी।

वर्ष के अंतिम दो महीनों में आप अपने यौन संबंधों से कुछ नाखुश नज़र आएंगे। क्योंकि 30 अक्टूबर से जहाँ राहु का द्वितीय भाव में गोचर होगा, वहीं केतु भी अष्टम भाव में विराजमान हो जाएंगे। इसके अलावा 3 नवंबर को शुक्र भी अपना गोचर करते हुए वहां पहले से उपस्थित केतु के साथ युति बनाएंगे। जिसके चलते आपके जीवनसाथी की सेहत में गिरावट दर्ज की जाएगी। यदि आप सिंगल है तो इस दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से आप किसी गलत व्यक्ति के झांसे में आ सकते हैं, जिससे न केवल आपका समय बर्बाद होगा, बल्कि आप किसी छल-कपट का भी शिकार हो सकते हैं।

उपाय: हर मंगलवार और शनिवार को बजरंगबली के मंदिर जाकर उन्हें केसरी सिंदूर अर्पित करें व गरीबों में बूंदी का प्रसाद बांटे।

वर्ष 2023 का कुंभ राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – कुंभ राशिफल 2023

मीन राशि का प्रेम राशिफल 2023

मीन राशि का प्रेम राशिफल 2023 (Meen Prem Rashifal 2023) कई मायनों में महत्वपूर्ण रहने वाला है। क्योंकि इस नव वर्ष की शुरुआत से 22 अप्रैल तक गुरु बृहस्पति आपकी ही राशि अर्थात आपके प्रथम भाव में विराजमान रहेंगे। ऐसे में गुरु बृहस्पति की ये स्थिति आपकी लव लाइफ में अनुकूलता लाने के योग बनाएं।

परंतु बावजूद इसके बीच-बीच में कुछ समस्या से दो-चार होना पड़ेगा। क्योंकि 17 जनवरी को शनि भी अपना गोचर करते हुए आपकी राशि के द्वादश भाव में विराजमान हो जाएंगे, जिससे आप पर शनि की साढ़ेसाती का मध्य चरण शुरू होगा। इस कारण आपको अपने वैवाहिक जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण फैसलों को लेने में खासा परेशानी महसूस हो सकती है। वहीं 22 जनवरी को शुक्र भी आपके द्वादश भाव में विराजमान होते हुए शनि के साथ युति करेंगे और इससे कुछ जातकों के साथी को किसी कारणवश कुछ समय के लिए दूर जाना पड़ सकता है।

फिर 22 अप्रैल से बृहस्पति का आपकी राशि के द्वितीय भाव में विराजमान होना, उनकी युति वहां पहले से उपस्थित राहु के साथ बनाएगा। राहु-गुरु की इस युति से आप पर पारिवारिक जिम्मेदारियों का बोझ बढ़ सकता है, जिससे अपने रिश्ते को समय देने में आप असमर्थ होंगे। हालांकि जल्दी ही आप अपने व्यक्तिगत जीवन में सही तालमेल बैठाते हुए धीरे-धीरे परिस्थितियों को अपने हक में करने में सफल रहेंगे।

भविष्यवाणी 2023 ये संकेत भी दे रही है कि, इसके बाद 23 जुलाई से 4 सितंबर तक शुक्र का वक्री अवस्था में होना उन जातकों को परेशानी दे सकता है जो हाल ही में नए रिश्ते से जुड़े हैं या विवाह के लिए अच्छे प्रस्ताव तलाश रहे हैं। क्योंकि इस दौरान अपनी इच्छा अनुसार अवसर प्राप्त नहीं होने से उनका मन कुछ उदास हो सकता है।

हालांकि इसके बाद जब शुक्र 3 नवंबर को अपना गोचर आपके सप्तम भाव में करेंगे, तो उस अवधि में आप अपने संबंधों में पुनः सकारात्मकता की अनुभूति करेंगे। साथ ही राहु भी 30 अक्टूबर के बाद आपकी राशि अर्थात आपके प्रथम भाव में प्रवेश करेंगे। वहीं केतु का भी आपके सप्तम भाव में गोचर करना व वहां उपस्थित शुक्र के साथ युति बनाना, आपके लिए साथी संग किसी रोमांटिक यात्रा पर जाने के योग बनाएगा। परंतु इसके लिए आपको अपना कुछ धन भी ख़र्च करना पड़ेगा।

उपाय: किसी भी मंदिर में जाकर पांच प्रकार के अन्न का दान करना आपके लिए इस वर्ष उचित रहेगा।

वर्ष 2023 का मीन राशि के लिए विस्तृत फलादेश पढ़ें – मीन राशिफल 2023

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये लेख जरूर पसंद आया होगा। ऐसे ही और भी लेख के लिए बने रहिए एस्ट्रोकैंप के साथ। धन्यवाद !
More from the section: Astrology 3409
Buy Today
Gemstones
Get gemstones Best quality gemstones with assurance of AstroCAMP.com More
Yantras
Get yantras Take advantage of Yantra with assurance of AstroCAMP.com More
Navagrah Yantras
Get Navagrah Yantras Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroCAMP.com More
Rudraksha
Get rudraksha Best quality Rudraksh with assurance of AstroCAMP.com More
Today's Horoscope

Get your personalised horoscope based on your sign.

Select your Sign
Free Personalized Horoscope 2022
© Copyright 2022 AstroCAMP.com All Rights Reserved